Message from Gulzar Dadi’s Centre by BK Sunita

Here is a snippet and Full message (in PDF), a message from Mumbai’s Gamdevi centre (where Dadi Gulzar is staying) written by BK Sister Sunita. Message in Hindi and English, also in PDF to print. MUST read this important and useful message. Then SHARE this post or PDF to BrahmaKumari and BrahmaKumar in your contact. Also read: Shiv Baba’s Message

यह विशेष सन्देश मुंबई के गामदेवी सेवा केंद्र से आया है, जहा गुलज़ार दादी रेहती है। लिखा है ब्रह्माकुमारी सुनीता बहन ने। इसे जरूर पढ़े। इसका FULL version आपको PDF में मिलेंगे। यह page/post को सभी ब्रह्माकुमारी व ब्रह्माकुमार को जरूर SHARE करे।

This is the message describing some news, a part of Dadi Gulzar stage, news of Gamdevi center. Thanks Baba for everything ~ BK Sister Sunita


➜ Only that soul can do subtle service which has packed up everything from external way.  So we also get a deep realization.  At that time, we used to just talk, let us also pack up like this. But today, Baba has given all of us Brahmins the golden opportunity that can we all pack up and sit in this manner?  Pack up and sit in this manner, meditate in such a way that we are able spend more time with Baba in the subtle world.  We cooperate with Baba in the service of the subtle world.  The time is now giving us this message.  Baba also wants this, even now Baba said in today’s sakar murli, child, now the bombs will explode, there will be earthquakes, then military will also come. Baba has told the Lashkar will also come, there will be a blood bath now. This is the type of time that will come. In such a time, we Baba’s children will see our Hero roles emerged.  We have to play our hero part because in such a time, we Baba’s children will be the ones who will be able to give the last and final Sakash. We also think sometimes why Baba has kept His chariot here only.  Today there is the unlimited home, but Baba’s chariot is housed in such a small place, and Dadi is sitting as an embodiment of penance.

Now we will tell you another experience that we’ve had with Dadi Gulzar. When Baba milan happens, Gulzar dadiji sits before the TV screen through the entire Baba milan. Dadi while sitting here gives sakash to all Baba’s children who come for Baba milan there. Sometimes, she says ….

➜ To continue to read the entire message, visit PDF version (full letter)

✻✻✻✻✻✻✻✻✻✻✻✻✻✻

यें गामदेवी सेंटर,मुम्बई, से दादी गुलज़ार की स्थिति, एवं संवाद का अवशिष्टांश हैं।  शुक्रिया बाबा सबकुछ के लिए। ~ सुनीता बहिन

➜ सूक्ष्म सेवा सिर्फ वहीं आत्माएं कर सकती है जिसकी अपनी मन बुद्धि को बाह्य जगत से सम्पूर्ण रीति समेट लिया हो। तो यह भी एक गहरी समझ हमें मिलती है। उस समय पर हम सिर्फ कहनेमात्र कहते थे कि हमें भी ऐसी उपराम हो जाना चाहिए। लेकिन आज बाबा ने हम सब ब्राह्मण बच्चों को  स्वर्णिम सौभाग्य प्रदान कियें है- क्या हम सभी इस तरह उपराम होकर इस बैठ सकते है? बाह्य जगत से मन बुद्धि को समेटलो और इस स्थिति में बैठ जाओ,ऐसी योग लगाओ ताकि अधिक से अधिक समय बाबा के साथ सूक्ष्म वतन में बितां सको। अभी का समय हमें यहीं संदेश दे रहा है। बाबा भी यहीं चाहता है, यह तक की आज की साकार मुरली में भी बाबा ने कहा है बच्चे,अभी तो बॉम्बस गिरने वाले हैं, भूकम्प आने वाली है, उसके बाद घोर लड़ाई भी लगने वाली है। बाबा ने बताया,लस्कर आदि भी आयेंगे, खुंन की नदियां बह रही होंगी। यह समय भी आयेगा। उस समय पर हम बाबा के बच्चे अपने हीरो पार्ट इमर्ज होते हुए देखेंगे। इस समय पर हमें अपनी हीरो पार्ट बजाना है क्यूंकि उस समय पर सिर्फ हम बाबा के बच्चे ही अंतिम एवं सर्वोच्च सकाश दे पाएंगे। हम कईं बार ये भी सोचते है की बाबा अपने रथ को(दादी गुलज़ार) को यहां पे ही क्यूं रखें हैं? आज के समय में अनगिनत गृह निर्माण होने के बावजूद भी बाबा के रथ कितनी छोटी सी जगह में रह रही है और दादी जी एक तपस्वीमूर्त ‌‌की तरह बैठी हुई हैं।
अब हम दादी जी के साथ हमारा और एक अनुभव आपके साथ बांटने जा रहे है। जब बाबा मिलन चलता है उस पूरे समय के दौरान दादीजी टीवी स्क्रीन के सामने बैठी रहती हैं। यहां बैठे हुए दादीजी उस हर एक बच्चे को साकश देती है जो वहां बाबा मिलन मनाने पहुंचते हैं। कभी कभी व बोलती हैं, की …. 

➜पूरा सन्देश पढ़ने लिए, PDF version (Hindi letter) पर जाये।

✱✱✱ Useful links ✱✱✱

General Articles ~ Hindi and English

Dadi Gulzar Biography

गुलज़ार दादी की जीवनी

PDF section (everything in PDF)

Online Services

Explore the Sitemap (Everything at 1 place)

Comments are closed.

Create a website or blog at WordPress.com

Up ↑

%d bloggers like this: