वरदानो की शक्ति

वरदानों की शक्ति (Power of Blessings). This is Hindi 25 points article on Power of blessings, inspired by Avyakt Murlis. Do SHARE this article (blog post) to many others…
 

 
* शिव भगवानुवाच :-*

1.) जैसे मैं इस ड्रामा को साक्षी होकर देखता हूँ वैसे तुम भी देखो तो बाप समान बन जाएंगे।

2.) स्वस्थिति श्रेष्ठ है तो परिस्थितियां बदल जाएगी, तुम्हारा कुछ नहीं बिगाड़ सकेंगी।

3.) तुम सिर्फ मुझे याद करो, तुम्हारे लिए सोचने का काम भी मैं करूँगा।

4.) तुम अपनी श्रेष्ठ पोजीशन में रहो तो कोई भी अपोजीशन कर नही सकता।

5.) तुम अपने श्रेष्ठ स्वमान में रहो तो वहां हर गुण व शक्ति का नशा सदा इमर्ज रूप में रहेगा।

6.) तुम्हारा सोचना, देखना सम्पूर्ण बनने का आधार है, तुम्हारी दृष्टि से आत्माएं और प्रकृति पावन बन रही है।

7.) ज्ञानसूर्य से शक्ति लेकर सबको देना यह मुख्य सेवा है बाकी सेवाएं तो निमित्त मात्र हैं।

8.) स्वभाव में सरल और पुरुषार्थ मे अटेंशन रख चलो तो नम्बरवन में आ जाएगी।

9.) तुम बाप की याद मे रहो तो प्रकृति विनाश के समय तुम्हारे समीप आकर एक फुट की दूरी पर रुक जाएगी।

10.) जब तुम अपने आप को सम्पूर्ण रीति से जान जाओगे तो सम्पूर्णता को प्राप्त कर लेंगे।

11.) तुम अपने को निमित्त समझकर चलो, जिम्मेवार मैं हूँ- यह स्मृति सब जिम्मेवारियों से हल्का कर देगी।

12.) यह सेवाएं तो तुम्हे बिजी रखने के लिए हैं, तुम्हारा लक्ष्य तो स्वयं परिवर्तन से विश्व परिवर्तन करना है।

13.) याद का बल उन बच्चों को मिलता है जो ऑनेस्ट हैं और जो सच्चे बाप से सच्चे होकर चलते हैं।

14.) बाप अपने को निमित्त समझकर निश्चिंत रहता है और बच्चे अपने को जिम्मेवार समझ कर परेशान रहते हैं।

15.) सर्वस्व त्यागी बनो तो सरलता और सहनशीलता का गुण आ जाएगा।

16.) जो बच्चे स्वमान की सीट पर सेट रहते हैं और उनका जिम्मेवार बाप है, जो नही रहते उनके जिम्मेवार वे स्वयं हैं।

17.) जितना बाप की याद में रहेंगे तो बाप के साथ का व बाप की छत्रछाया का अनुभव होता रहेगा। Video: Yaad aur Farista stage (Avyakt murli clip)

18.) जो त्यागी और तपस्वीमूर्त हैं भाग्य उनके आगे-पीछे दासी के समान आता है।

19.) तुम सुख के सागर के बच्चे हो, तुम्हे संकल्प में भी दुख की लहर नही आ सकता।

20.) बुध्दि रूपी विमान से सेकंड में वतन में पहुँच सर्वशक्तिमान बाप की किरणों का अनुभव करना ही शक्तिशाली योग है। (Refer: आत्मा की 8 शक्तियां)

21.) तुम कल्याणकारी बाप के बच्चे हो, स्वप्न में भी तुम्हारा अकल्याण नही हो सकता।

22.) तुम नॉलेजफूल आत्माएं संसार को रोशन करने वाले हो, तुम्हारे जीवन में एक सेकंड भी अंधकार नही हो सकता।

23.) तुम्हारे भाग्य का निर्माण स्वयं भाग्यविधाता बाप ने किया है, भाग्यविधाता ही तुम्हारा हो गया है।

24.) जो बच्चे परमात्मा प्यार में खोए रहते हैं उन्हें संसार का कोई भी आकर्षण आकर्षित नही कर सकता।

25.) जो आत्माएं बाप के नयनों में समाई रहती हैं माया की नजर उन पर पड़ नही सकती।
 

* ॐ शांति *
 

—– Useful links —–

मुरली से कविता (Murli Poems)

विशेष हिन्दी कविताये

परमात्मा का परिचय

All BK Articles – Hindi & English

RESOURCES – Everything audio

BK Google – Search the divine

.

Comments are closed.

Create a website or blog at WordPress.com

Up ↑

%d bloggers like this: